June 24, 2024

baatmuddeki

baatmuddeki

देश के वीर जवानों की कलाई पर सजेगी इन बहनों के हाँथो से बनी राखियां

एंकर…बहनों के हाँथ से बनी राखियों से सजेगी सीमाओं पर तैनात वीर जवानों की कलाई…
जी हाँ देहरादून शहर के अलग अलग इलाकों में रहने वाली महिलाओं ने एकत्रित होकर देश के वीर जवानों के लिए अपने हाँथो से आकर्षक राखियां बनाई है जो देश के बॉर्डर इलाकों में तैनात जवानों,इसरो के वैज्ञानिकों के लिए भेजी जा रही है…

आपको बता दें कि देहरादून के प्राचीन टपकेश्वर मंदिर के आचार्य विपिन जोशी जी के द्वारा पिछले 25 सालों से देश के जवानों के लिए हर रक्षाबंधन पर बहनों से राखियां बनवाकर भिजवाई जाती है…

वही देहरादून की बहनों ने 15 जुलाई से रक्षाबंधन के लिए राखियां बनाना शुरू किया था 24 अगस्त तक इन महिलाओं के द्वारा 2 हजार से भी ज्यादा राखियां बना कर तैयार कर ली गई है जोकि देश के बहादुर वीर सपूतों के लिए बनाई गई हैं

वही चंद्रमा पर चंद्रयान की सफल लेंडिंग के बाद देश भर में जोश नजर आ रहा है इसीलिए इन महिलाओं के द्वारा इसरो के वैज्ञानिकों के लिए भी चंद्रयान वाली राखियां बनाकर भेजी है

देहरादून के गढ़ी कैंट में एकत्रित होकर इन तमाम महिलाओं के द्वारा न केवल देश की रक्षा में तैनात आर्मी, BSF के जवानों,इसरो के वैज्ञानिक के साथ ही देश के यसस्वी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उत्तराखंड, उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के लिए भी राखियां भेजी जा रही हैं

देश की सुरक्षा में अपनी जान की बाजी लगाने वाले वीर सपूतों के साथ उन करोडों बहनों की दुआएं भी है जो देश के अलग अलग हिस्सों से बॉर्डर पर तैनात अपने भाइयों के लिए राखी के बंधन को भेज कर भगवान से देश और वीर जवानों की सलामती की प्रार्थना कर रहीं है इसके साथ ही इसरो के वैज्ञानिकों को भी बधाई और शुभकामनाएं दे रहे हैं